Yantra's

जन्म कुंडली में जो गृह निर्बल व पीड़ाकारक हे उनसे संबधित शुभ मुहुत्र में विधिपूर्वक बना यन्त्र धारण करने से अशुभ फल की निवृति तथा शुभ फल की प्राप्ति होती है | सूर्यादि नवग्रहों के यन्त्र आगे दिए जा रहे है |


All the Yantra's will be made in Silver and only at specific muhurta and will be energies’ through there mantra’s.

All the Yantra's can be purchased from Nakshatra Jyotish Kendra. Shipping Charges Extra.


गृह यन्त्र ग्रहों के बीज मंत्र जप संख्या समय
Surya Yantra सूर्य यन्त्र :

ॐ ह्रां ह्रीं ह्रों सः सूर्याय नमः |

7000 सूर्योदय
Chandra Yantra चन्द्र यन्त्र :

ॐ श्रां श्रीं श्रों सः चन्द्रमसे नमः |

11000 संध्याकाल
Mangal Yantra मंगल यन्त्र :

ॐ क्रां क्रीं क्रों सः भोमाय नमः |

10000 सूर्योदय के सवा दो घटी के बाद
Budh Yantra बुध यन्त्र :

ॐ ब्रां ब्रीं ब्रों सः बुधाय नमः |

9000 सूर्योदय के ५ घटी के बाद
Brahaspati yantra ब्रहस्पति यन्त्र :

ॐ ग्रां ग्रीं ग्रों सः गुरुवे नमः |

19000 संध्याकाल
Shukra Yantra शुक्र यन्त्र :

ॐ द्रां द्रीं द्रों सः शुक्राय नमः |

16000 सूर्योदय
शनि यन्त्र :

ॐ प्रां प्रीं प्रों सः शनेश्चराय नमः |

23000 संध्याकाल
Rahu Yantra राहू यन्त्र :

ॐ भ्रां भ्रीं भ्रों सः राहवे नमः |

18000 रात्रि
Ketu Yantra केतु यन्त्र :

ॐ त्रां स्त्रीं स्त्रौं सः केतवें नमः |

17000 रात्रि

Leave your comments

0 / 500 Character restriction

Comments

  • No comments found

Chatroll Live Chat